Friday, February 5, 2010

नया ज्ञानोदय में प्रकाशित मेरा संस्मरण



इस संस्मरण को मैंने दो हिस्सों में लिखा है। मेरी चुनौती की दो शक्लें हैं- पहली भावनात्मक चुनौती और दूसरी पेशे की चुनौती। मैंने 2004 से लेकर अगले दो साल में 4 पाकिस्तान दौरे किए हैं, पाकिस्तान के तमाम रास्ते, तमाम गलियां मुझे याद हैं। पाकिस्तान में कुछ दुकानें ऐसी हैं, जहां मेरा “उधार” चलता था। कई ऑटो वाले फुटकर ना होने की सूरत में ये कहकर चले जाते थे कि अगली बार दे देना मियां। संस्मरण का दूसरा हिस्सा पेशेवर चुनौतियों का हैं, और पहला हिस्सा उन चुनौतियां का, जो तब तक यूं ही बनी रहेंगी, जब तक पाकिस्तान का पांचवां दौरा करने का मौका ना मिल जाए। खैर, जाने माने गीतकार और अभिनेता पीयूष मिश्र से माफी मांगते हुए (उनसे इजाजत नहीं ले पाया) उनकी कुछ लाइनें-
लाहौर के उस पहले जिले के,
दो परगना में पहुंचे,
रेशम गली के दूजे कूचे के,
चौथे मकां में पहुंचे,
कहते हैं जिसको दूजा मुल्क,
उस पाकिस्तान में पहुंचे,
लिखता हूं खत मैं हिंदुस्तां से
पहलु-ए-हुस्ना में पहुंचे,
ओ हुस्ना...
मैं तो हूं बैठा,
ओ हुस्ना मेरी, यादों पुरानी में खोया,
पल पल को गिनता
पल पल को चुनता
बीती कहानी में खोया
पत्ते जब झड़ते हिंदुस्तां में
बातें तुम्हारी ये बोलें
होता उजाला जब हिंदुस्तां में
यादें तुम्हारी ये बोलें
ओ हुस्ना मेरी ये तो बता दो
होता है ऐसा क्या उस गुलिस्तां में
रहती हो नन्ही कबूतर सी गुम तुम जहां
ओ हुस्ना...
पत्ते क्या झड़ते हैं पाकिस्तान में वैसे ही
जैसे झड़ते यहां
ओ हुस्ना...
होता उजाला क्या वैसा ही है
जैसा होता है हिंदुस्तां में...हां
ओ हुस्ना...
वो हीर के रांझों, के नगमें मुझको
हर पल आ आके सताएं
वो बुल्ले शाह की तकरीरों के
झीने झीने से साए
वो ईद की ईदी, लंबी नमाजें, सेवइयों की झालर
वो दीवाली के दिए, संग में बैसाखी के बादल
होली की वो लकड़ी जिसमें
संग संग आंच लगाई
लोहड़ी का वो धुंआ जिसमें
धड़कन है सुलगाई
ओ हुस्ना मेरी
ये तो बता दो
लोहड़ी का धुआं क्या अब भी निकलता है
जैसे निकलता था, उस दौर में हां... वहां
ओ हुस्ना
हीरों के रांझों के नगमे
क्या अब भी सुने जाते हैं वहां
ओ हुस्ना
रोता है रातों में पाकिस्तान क्या वैसे ही
जैसे हिंदुस्तान
ओ हुस्ना
पत्ते क्या झड़ते हैं क्या वैसे ही
जैसे कि झड़ते यहां
होता उजाला क्या वैसे ही
जैसा होता ही हिंदुस्तां में...हां
ओ हुस्ना...
पीयूष भाई की ये लाइनें जब पहली बार सुनी थीं तो रोंगटे खड़े हो गए थे। आज करीब 8-9 साल बाद जब दोबारा मुंबई में अपने एक दोस्त हनी त्रेहान से इन लाइनों को फोन पर नोट किया तो एक बार फिर रोंगटे खड़े हो गए। पता चला कि पीयूष भाई अस्पताल में हैं, इसलिए उन्हें फोन करके परेशान ना करने का फैसला किया और सोच लिया कि चुनौतियों से भरे अपने संस्मरण की शुरूआत इन्हीं लाइनों से करूंगा। इन्हीं लाइनों से इसलिए क्योंकि पाकिस्तान और भारत में जिस तरह के ताजा हालात हैं, उसमें अब हाल फिलहाल पाकिस्तान जाना मुमकिन नहीं दिखता। दूसरी बड़ी बात ये भी है कि जिस तरह से आतंकवाद ने पाकिस्तान के तमाम शहरों को अपनी चपेट में ले रखा है उससे वहां जाने की हिम्मत जुटाना भी आसान नहीं होगा। 2004 से लेकर 2006 के बीच जो 4 पाकिस्तान दौरे किए उसमें कोई “हुस्ना” तो नहीं मिली...लेकिन रिश्तों की गहराइयों के लिहाज से कई ऐसे मां-बाप-दोस्त-भाई और बहनें मिलीं जिनका पूरा पता मेरे पास नहीं। कईयों के टेलीफोन नंबर तक नहीं...और कुछ के बस चेहरे भर याद हैं-उनके नाम तक याद नहीं। हालात दिन-ब-दिन खराब होते जा रहे हैं और सुधार के आसार भी नजर नहीं आते। इसीलिए मेरी हालत पीयूष भाई की कविता के उस नायक की तरह ही है, जो अपनी हुस्ना को ढूंढ रहा है...और मैं उस “हुस्ना” के बहाने अपनी जान पहचान के कई चेहरों को....
करीब 6 साल होने वाले हैं। जब पहली बार पाकिस्तान के दौरे पर गया था। क्रिकेट सीरीज कवर करने। बड़ी अहम सीरीज थी वो, भारतीय टीम 14 साल बाद पाकिस्तान का दौरा कर रही थी। उस दौरे के लिए लाहौर पहुंचने के बाद से लेकर घर वापस लौटने तक हर मिनट एक चुनौती की तरह था। वीजा की चुनौती, स्टोरीज की चुनौती और भी ऐसी कई चुनौतियां जो शायद लिखी नहीं जा सकतीं, उन्हें वहां जाने पर सिर्फ महसूस किया जा सकता है। खैर, उसके बाद 4 बार पाकिस्तान गया। हर बार पाकिस्तान का एक नया चेहरा देखा, और यकीन मानिए मेरे लिए अब भी उन्हीं चेहरों को भूलने की चुनौती है। जिन्हें मैं भूल नहीं सकता।
लाहौर में धमाका, रावलपिंडी में धमाका, पेशावर में धमाका, कराची में धमाका, मुल्तान में धमाका, इस्लामाबाद में धमाका...बेनजीर भुट्टो की हत्या, श्रीलंका की क्रिकेट टीम पर दिन दहाड़े हमला...आए दिन होने वाली आंतकी घटनाएं, आए दिन मरते बेगुनाह, आए दिन बिछड़ते लोग, आए दिन मरती इंसानियत। क्या हो रहा है ये और क्यों हो रहा है ये...इस पर तो पूरी दुनिया की निगाहें हैं...पर मेरी निगाहें हैं अपने उन दोस्तों की खैरियत जानने में, जो पिछले 4 दौरों में मुझे मिले। मेरे दोस्त बने। आज कुछ के नंबर मेरे पास हैं, कुछ के नहीं। कैसे पता करूं उनकी खैरियत, जिनके नंबर मेरे पास नहीं हैं। कुछ की तस्वीरें भी मेरे पास हैं, पर वो कहां है...नहीं मालूम।
लाहौर के कलमा चौक पर जो मिनी गॉल्फ क्लब है, उसके रजा भाई कैसे हैं? कराची में वो जो टैक्सी वाला हमें बीच घुमाने ले गया था, वो कैसा है? मुल्तान में स्टेडियम के बाहर खड़ा वो रिक्शा वाला जिसने ये जानने के बाद कि हम हिंदुस्तान के हैं- हमसे पैसे नहीं लिए। पेशावर में शाहरूख खान के नाम की कसम खाने वाला हमारा होटल वाला कैसा हैं....सरहद पार आए दिन होने वाले धमाकों के बाद जाने कितने ऐसे चेहरे आंखों के सामने घूमने लगते हैं, जिनके बस चेहरे याद है और उनके साथ हुई मुलाकात।
आइए, आपको रजा खान से मिलाता हूं। कद यही कोई 6 फीट 3 इंच...पठान, गठीला बदन-कमर में अति अत्याधुनिक रिवाल्वर लगाए रजा खान किसी ऑफिसर से कम नहीं दिखते। उम्र रही होगी यही कोई 50-52 साल। लाहौर का एक व्यस्त चौराहा है-कलमा चौक। वहीं है मिनी गॉल्फ क्लब। वहीं के चीफ सेक्योरिटी ऑफिसर थे रजा खान। उसी गॉल्फ क्लब से सामने हमारा काम करने का अड्डा था। गॉल्फ क्लब हम इसलिए चले जाते थे, क्योंकि वहां छोले के साथ आलू चाट खाने को मिल जाया करती थी...जो शुरू शुरू में हमारा डिनर था। रजा भाई से मुलाकात क्या हुई, हमारा कई काम आसान हो गया। क्या करना चाहिए और क्या नहीं करना चाहिए कि एक छोटी सी लिस्ट उन्होंने हमें बता दी, और ये वायदा ले लिया कि जब तक हम लाहौर में हैं, उनसे मिलने जरूर जाएंगे। रजा भाई की बड़ी ख्वाहिश थी कि वो हिंदुस्तान आएं, कई बार उन्होंने ये इच्छा जताई...कहने लगे सुना है कोई बीमार हो तो हिंदुस्तान आने का वीजा मिल जाता है- शादी का न्यौता आ जाए तो वीजा मिल जाता है...खैर, 2004 में हम अक्सर उनसे मिलने जाते थे, उस दौरे से लेकर अगले दौरे तक हम लोग संपर्क में थे। कभी मैं उन्हें फोन कर लिया करता था- कभी वो मुझे फोन कर लिया करते थे। बातचीत से ऐसा लगता था कि अब हमारी जान पहचान अच्छी हो चुकी है। पर, अगली दफे जब मैं पाकिस्तान पहुंचा और उनसे मिलने गया- तो वो मुझे पहचान नहीं पाए। मुझे बहुत गुस्सा आया, मैंने तुनक कर कहा- अभी जो माउज़र आपने लगाई है ना उसी से शूट कर दूंगा। उन्हें सबकुछ याद आ गया, मेरा नाम...मेरा चैनल, और उन्होंने गले लगा लिया। हम लोग बैठे, साथ में कुछ खाया पीया...फिर मैंने उनसे कहाकि मुझे कुछ चीजें खरीदनी हैं- और उसमें चमड़े का एक जूता भी शामिल है। रजा भाई ने एक लड़के को आवाज दी, कहाकि मेरे कमरे में कुछ जूते पड़े हैं उन्हें ले आओ...जूते आ गए। जैसे ही जूते आए, मुझसे उम्र में करीब 20 साल बड़े रजा भाई नीचे बैठ गए, ठीक वैसे ही जैसे अगर आप जूते खरीदने की दुकान पर जाए तो सेल्समैन करते हैं...मैंने हाथ जोड़ लिए, मैं खड़ा हो गया, मैंने कहा- रजा भाई क्यों गुनाह करवा रहे हो, क्या चाहते हो आप....
पर रजा भाई मेरे सामने हाथ जोड़कर खड़े हो गए, उनकी आंखें भर आई थीं, वो कुछ बोले नहीं पर उनकी आंखे यहीं कह रही थीं कि मैं बैठ जाउं...मैं बैठ गया, रजा भाई ने अपने हाथों से मेरा जूता उतारा, मुझे नए जूते पहनाए...और खड़े तब हुए जब मेरे पैर में एक जूता बिल्कुल सही आ गया। वो खड़े हुए तो मैंने बढ़कर उनके पैर छू लिए...इस बार रजा भाई आंसुओं को रोक नहीं पाए, खूब रोए। कहने लगे, बस यही चाहत है कि एक बार हिंदुस्तान घूमने का मौका मिल जाए। मैंने पूछा आपने मेरे जूते उतारकर मुझे क्यों शर्मिन्दा किया, कहने लगे- मियां तुम जानते नहीं हो, ये जूते मैं अपने अब्बा के लिए लाया था, उन्हें भी तो मैं अपने ही हाथों से पहनाता...फिर तुम अब बस इन्हें ले जाओ...कुछ बोले तो माउज़र से शूट कर दूंगा। इस बार उनके हाथ कमर पर थे, और चेहरे पर थोड़ी मुस्कराहट। मैं चला आया, अब रजा भाई का जो नंबर है वो नहीं लगता...मैंने किसी के जरिए पता किया था कि रजा भाई कैसे हैं, पता चला कि अब वो गॉल्फ क्लब रोजाना नहीं आते। अपना ख्याल रखिएगा रजा भाई...
मेरे कुछ और मित्र थे, लाहौर के ही। ग्वाल मंडी की फूड स्ट्रीट पर स्टोरी करनी थी, तब उनसे मुलाकात हुई थी। फूड स्ट्रीट पर स्टोरी करने का दिलचस्प आइडिया दिमाग में आया था। कोशिश ये थी कि पाकिस्तान की कुछ लड़कियां अगर हमारे साथ फूड स्ट्रीट में जाएं, और हमें वहां के पकवानों के बारे में बताएं, तो एक शानदार स्टोरी हो सकती है। अनवर भाई से उसी स्टोरी के सिलसिले में मुलाकात हुई थी। स्टोरी का एंगल बताया तो हंस कर कहने लगे- मैं अपनी मंगेतर को बोल देता हूं, वो अपनी बहनों के साथ आ जाएंगी। हमने उनसे पूछा कि उन्हें कोई दिक्कत तो नहीं होगी क्योंकि हमें फूड स्ट्रीट पहुंचने में थोड़ी देर होगी, दरअसल उससे पहले एक और स्टोरी लाइन-अप थी...जवाब मिला, हूजूर आप पहुंचने से पहले फोन कर दीजिएगा, हम लोग आ जाएंगे, हिंदुस्तान से कोई भाई आए तो उसके लिए तो हम रात तीन बजे भी आ जाएंगे। वो स्टोरी हमने की, हर किसी को उस स्टोरी का अंदाज बेहद पसंद आया। खुदा जाने, अनवर भाई इन दिनों कहां हैं....लाहौर में, कराची में, पेशावर में या कहीं और...
ऐसे ना जाने कितने किस्से हैं, कितने चेहरे हैं जो हर रोज दिमाग में आते हैं-फिर चले जाते हैं। बड़ी ख्वाहिश थी कि एक बार मैं पूरे परिवार के साथ पाकिस्तान जाउंगा, कहने को मेरी वहां कोई जड़े नहीं- कोई रिश्तेदार नहीं, पर सच पूछिए तो तमाम किस्से हैं...तमाम यादें हैं। दिल और दिमाग के एक कोने में बहुत कुछ है।
(2)
चलिए पेशे की चुनौतियों की यादें भी ताजा कर ली जाएं। शायद आपकी दिलचस्पी इन बातों को जानने में भी हो कि मैं आखिर पाकिस्तान पहुंचा कैसे...2004 में तकरीबन 14 साल बाद भारतीय क्रिकेट टीम के पाकिस्तान दौरे को मंजूरी मिली थी। मंजूरी शब्द का इस्तेमाल यहां इसलिए जरूरी है क्योंकि ये मंजूरी गृह मंत्रालय से मिली थी, इससे पहले सुरक्षा विशेषज्ञों की एक टोली ने पाकिस्तान जाकर बाकयदा सुरक्षा इंतजामों का जायजा लिया था। ये दौरा मार्च में शुरू होना था, जिसमें 3 टेस्ट मैच और 5 वनडे मैच खेले जाने थे। इस दौरे की कवरेज के लिए सभी टीवी चैनल्स ने जोरदार तरीके से तैयारी की थी। मैं उन दिनों जी न्यूज में था। एक रोज बॉस ने बुलाया और इस दौरे के लिए मुझे, एक और सहयोगी अनिमेष चौधरी और दो कैमरामैन को एक्रीडीटेशन के लिए आवेदन करने को कहा।
सीरीज को कवर करने के लिए वाया बीसीसीआई हम सभी ने एक्रीडीटेशन फॉर्म भर दिया था। कुछ रोज बाद, पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड ने मेरे और अनिमेष के नाम की मंजूरी तो दे दी- लेकिन साथ ही साथ ये जानकारी भी मिली कि इस दौरे के लिए किसी भी निजी चैनल को कैमरामैन और कैमरा ले जाने की इजाजत नहीं होगी। ये तय हुआ कि हम पाकिस्तान पहुंचकर कोई लोकल कैमरामैन ढूंढेंगे।
यहां एक छोटी सी जानकारी देना जरूरी है वो ये कि 2003 के पहले मैं आउटपुट टीम का हिस्सा था। यानी मेरे जिम्मे देश के हर कोने से आने वाली संवाददाताओं की रिपोर्ट्स को दर्शकों तक पहुंचाने का काम था, पर जब 2003 वर्ल्ड कप के दौरान एक नई खेल डेस्क बनाई गई, तो मुझे उसमें रखा गया। साल खत्म होते होते ऑस्ट्रेलिया दौरे को कवर करने को भी कहा गया- पर तब मेरे पास पासपोर्ट नहीं होता था। जब पासपोर्ट ना होने की जानकारी मैंने अपने तत्कालीन बॉस को दी, तो उन्होंने खूब डांटा...बोले- इलाहाबाद में संगम पर नाव चलाओ या किराने की दुकान खोल लो- तुम्हें पत्रकार बनने का कोई अधिकार नहीं है। खैर, वो मौका हाथ से निकल गया तो जल्दी ही दूसरा मिला, खबर और दौरे की अहमियत के लिहाज से ऑस्ट्रेलिया से कहीं बड़ा दौरा पाकिस्तान का था...और मैं पासपोर्ट बनवा चुका था। तत्काल सेवा में। यानी अब ना तो मुझे संगम किनारे नाव चलानी थी और ना ही किराने की दुकान खोलनी थी, अब मुझे रिपोर्टिंग करनी थी।
मेरे पाकिस्तान दौरे पर जाने की बात पापा मम्मी को मालूम हुई, तो उन लोगों ने थोड़ी शंकाए भी जाहिर की। पापा ने कहा- अरे, कहीं और चले जाना। पाकिस्तान जाना जरूरी है क्या, मैंने उन्हें समझाया, लेकिन मुझसे ज्यादा समझाया मेरे बड़े भाई ने। अगला काम था पाकिस्तान का वीजा लेना। 2004 के बाद अबतक मैं 4 बार पाकिस्तान जा चुका हूं, उसके अलावा भी क्रिकेट कवरेज के सिलसिले में कई देशों की यात्राएं की हैं...पर ये बात मैं बिल्कुल होशो-हवास में लिख रहा हूं कि पाकिस्तान का वीजा लेना लगभग चांद तारे तोड़ने जैसा ही है। वो भी तब जबकि आपका नाम बीसीसीआई, पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड और तमाम जरूरी संस्थाओं से अप्रूव हो चुका हो। तो साहब हम पहुंचे पाकिस्तान हाई कमीशन में वीजा के आवेदन के लिए। गेट नंबर 1 पर कहा गया, गेट नंबर 2 पर जाइए, गेट नंबर 2 बंद था, गेट नंबर-3 खुला था....उसके सामने लंबी लाइन थी। पता चला यहां वीजा का फॉर्म मिलता है। बड़ी मुश्किल से वीजा का फॉर्म लिया। अब तो इस तरह के काम न्यूज चैनल की एडमिन टीम के लोग करा दिया करते हैं, पर उस समय ये जिम्मेदारियां रिपोर्टर के खाते में ही आती थीं। फॉर्म भरा- पर उसे लेने वाला कोई नहीं...तब तक फॉर्म नहीं लिया गया, जब तक पीसीबी से लिस्ट नहीं आ गई। फॉर्म जमा हो गया, तो ये बताने वाला कोई नहीं कि अब वीजा मिलेगा कब...हर रोज फोन करना और एक ही जवाब सुनना- अभी नहीं, ये सिलसिला कई दिनों तक चला। इस बीच हमारी लाहौर की टिकटें आ गई थीं।
10 मार्च 2004। शाम करीब 5 बजे के आसपास की फ्लाइट थी। वीजा का अभी तक कोई पता ठिकाना नहीं था। ये आस जरूर बंधी थी कि आज वीजा मिल जाएगा। उसी दिन सुबह कोई खास बुलेटिन जाना था। मेरे और अनिमेष में से किसी एक का हर हाल में दफ्तर में होना जरूरी था। हम लोगों ने तय किया कि मैं हाई कमीशन जाऊंगा, और अनिमेष दफ्तर में बुलेटिन देखेंगे। हमने तैयारी के तौर पर अपनी अटैची भी साथ रख ली थी कि अगर वीजा मिल गया तो वापस घर ना लौटना पड़े। सुबह तकरीबन साढे दस बजे हम फिर पाकिस्तान हाई कमीशन की खिड़की पर थे। बताया गया कि जिनके जिनके नाम आ गए हैं, उन्हें 2 बजे के बाद वीजा मिल जाएगा। मोटे तौर पर कहा जाए तो अब भी 100 फीसदी कन्फर्म नहीं था कि आज हमारा वीजा भी मिल जाएगा। मैं अनिमेष को फोन करके पल पल की जानकारी दे रहा था। मैंने उनसे कहाकि वो भी घर जाकर कुछ कपड़े वगैरह रख लें, पर वो काम की वजह से दफ्तर से नहीं निकल सकते थे। 2 बजे के बाद जब वीजा के लिए खिड़की खुली, तो ऐसा लगा कि पत्रकारों में झगड़ा हो जाएगा। लड़ते झगड़ते मेरे हाथ में भी करीब सवा तीन बजे तक मेरा और अनिमेष का पासपोर्ट आ चुका था। दोनों के पासपोर्ट पर पहला वीजा। पाकिस्तान का वीजा। पहला विदेश दौरा।
अब फ्लाइट में करीब 2 घंटे का वक्त बचा हुआ था। इसी फ्लाइट से भारतीय टीम के खिलाड़ियों को भी लाहौर जाना था। अंतर्राष्ट्रीय फ्लाइट पकड़ने के लिए 3 घंटे पहले एयरपोर्ट पर पहुंचने का नियम है। फिर भी कोई जुगाड़ करेंगे ये सोच कर मैं सीधा एयरपोर्ट के रास्ते पर था। अनिमेष ऑफिस में थे-और ऑफिस नोएडा में। अनिमेष वहां से भागे, अभी रास्ते से ही फॉरेक्स यानी डॉलर का इंतजाम भी करना था...उस बारे में मैंने एकाउंटस में फोन से बात की। मेघा ने किसी तरह डॉलर्स का इंतजाम किया, और फॉरेक्स लेकर एक तीसरा आदमी एयरपोर्ट के लिए रवाना हुआ। आपकी सुविधा के लिए एक बार फिर याद दिला दूं कि मैं हाई कमीशन से दिल्ली एयरपोर्ट के रास्ते पर था। अनिमेष नोएडा से दिल्ली एयरपोर्ट के रास्ते पर थे और फॉरेक्स लेकर एक तीसरा आदमी शायद कनॉट प्लेस से एयरपोर्ट के रास्ते पर था। इसी बीच मैंने अपने एक सहयोगी, जो एविएशन बीट पर काम करते थे को पूरे हालात समझा दिए थे। उन्होंने बताया था कि एयरपोर्ट पर कोई मुझे मिलेगा जो मेरी पूरी मदद करेगा और कोशिश करेगा कि मैं फ्लाइट पकड़ सकूं। अलग अलग रास्ते से निकलकर हम तीनों तकरीबन साढ़े चार बजे के आस-पास मिले...हमारी मदद के लिए वो शख्स तैयार खड़े थे। उन्होंने हमारी तमाम उन हिचकिचाहटों को मन में आने से रोका जो पहली बार देश से बाहर जाने पर होती हैं। चेक-इन, इमीग्रेशन और हम फ्लाइट में। खिलाड़ी हमसे पहले से फ्लाइट में बैठे हुए थे। ऐसा लग रहा था कि जहाज सिर्फ हमारा इंतजार कर रहा था। इतना भी वक्त नहीं मिला कि मोबाइल पर फोन करके घर वालों को हम बता सकें कि हम जा रहे हैं। पाकिस्तान जा रहे हैं। अच्छा ये बताना तो मैं भूल ही गया था कि अनिमेष बगैर किसी सूटकेश के जा रहे थे। यानी उनके पास कोई कपड़ा लत्ता नहीं था। वही कपड़े जो शरीर पर थे...दौरा करीब 2 महीने का था और कपड़ा कोई नहीं। उस फ्लाइट से टीम के खिलाड़ियों के साथ लाहौर की उड़ान भरने वाले सिर्फ 2 टीवी पत्रकार थे- मैं और अनिमेष।
ज्यादा से ज्यादा 2 घंटे लगे होंगे, लाहौर पहुंचने और वहां इमीग्रेशन करवा कर एयरपोर्ट से बाहर निकलने में। बाहर निकलते ही हमने पाकिस्तान के लोकल सिम कार्ड लिए। दफ्तर में फोन करके बताया कि हम पहुंच गए। बॉस का आदेश मिला- तुंरत फोनो दो। फ्लाइट में क्या कर रहे थे खिलाड़ी, एयरपोर्ट पर उतरे तो कैसा स्वागत हुआ, पाकिस्तान की जमीन पर कदम रखा तो क्या लग रहा है...जैसे सवाल पर हमारा फोनो हुआ। फोनो के तुरंत बाद बॉस ने फोन करके कहाकि एक बात हम गांठ बांध लें कि हर चीज एक स्टोरी है। पाकिस्तान को लेकर जिस तरह की संवेदनाएं हैं, उसमें तमाम तरह की मानवीय पहलुओं वाली स्टोरी की उम्मीद हम दोनों से की जा रही थी। हमने तमाम स्टोरीज प्लान भी की थीं। बात साफ हो गई थी कि आने वाले दिनों में चुनौतियां बढ़ती जाएंगी। हमारी गाड़ी “रिहाइश इन” नाम के एक गेस्टहाउस के रास्ते पर थी। हमसे पहले पाकिस्तान जा चुके सहयोगियों ने हमें लाहौर के कलमा चौक के पास इस गेस्ट हाउस में रूकने की सलाह दी थी। हम कुछ देर बाद बिस्तर पर लेटे थे। एयरपोर्ट से उतरने के बाद गेस्ट हाउस तक पहुंचने के दौरान मैंने जो कुछ देखा-सुना या महसूस किया था उसके बाद दिमाग में एक बात घूम घूम कर आ रही थी कि ये पाकिस्तान क्यों है- और वो भारत क्यों...विदेश की किसी भी परिभाषा पर पाकिस्तान मुझे फिट होता नहीं दिख रहा था। सब कुछ यहीं के जैसा था। बिल्कुल एक जैसा।
रात में जब हम खाना खाने के लिए निकले और जिस कार में बैठे, उसने हमसे पूछा आप कहां से आए हैं। हमने अपने बारे में बताया कि हम हिंदुस्तानी हैं और यहां क्रिकेट सीरीज कवर करने के लिए आए हैं। बालों में चांदी जैसे बाल लिए वो शख्स खुश हो गया- कहने लगा आपको हिंदुस्तानी गाने सुनाता हूं। थोड़ी ही देर में कार में अमिताभ बच्चन की किसी फिल्म के गाने बज रहे थे। उसने ये भी पूछा कि आप हिंदुस्तान में कहां से हो- दिल्ली से? हमने जवाब दिया कि हम दिल्ली में नौकरी करते हैं- लेकिन रहने वाले एक छोटे से शहर के हैं। उसने शहर का नाम पूछा, मैंने बताया आपने नाम नहीं सुना होगा- मैं इलाहाबाद का रहने वाला हूं। उसने कहा- वाह, अमिताभ बच्चन भी तो वहीं के हैं। उसके इस जवाब ने पहले तो चौंकाया, फिर दिमाग में वही बात आ गई कि आखिर फर्क ही क्या है, जो उसे नहीं पता होगा कि अमिताभ बच्चन का ताल्लुक भी इलाहाबाद से है। रास्ते में उससे तमाम बातचीत होती रही, मुझे बिल्कुल कायदे से याद है कि उसने ये भी पूछा कि ये बाल ठाकरे कौन है? हमने बता दिया कि बाल ठाकरे कौन है।
अगले दिन सबसे पहले कैमरामैन ढूंढने का काम शुरू हुआ। कलमा चौक के करीब वीडियो स्पॉट नाम की एक कंपनी के साथ करार हुआ। करार ये था कि हम उनके कैमरामैन के साथ काम करेंगे, उनकी एडिट टेबल का इस्तेमाल करेंगे। अब स्टोरीज की मारामारी शुरू हुई। टीम की हर गतिविधी पर नजर और उसके साथ साथ सॉफ्ट स्टोरीज करने का दबाव। अब परेशानी इस बात की थी कि हम जो कुछ भी शूट कर रहे हैं, उसे भेजेंगे कैसे...क्योंकि शूट की गई फीड को भेजने के लिए पीटीवी के स्टेशन से करार करना होता था और दस मिनट की फीड भेजना बेहद महंगा सौदा था। शुरूआत में एक-दो दिन हमने इंटरनेट के जरिए फीड भेजने की कोशिश की। आज तकरीबन 6 साल बाद विदेश दौरों पर रिपोर्टर्स इंटरनेट से ही फीड भेजते हैं- पर तब ये काम बेहद मुश्किल था। वजह थी इसके बारे में ज्यादा जानकारी का ना होना और पाकिस्तान में आसानी से साइबर कैफे का ना मिलना। एक दो रातें काली हुई। हमने रात रात भर बैठकर फीड तो भेजी, पर सिर्फ 1 मिनट की...यानी स्टोरी के लिहाज से 1 मिनट की फीड जरूरत से कहीं ज्यादा कम। सबसे ज्यादा झुंझलाहट तब हुई जब हमारे पास सचिन तेंडुलकर का छोटा सा एक्सक्लूसिव इंटरव्यू था, पर हम उसे लाख कोशिश करके भी भेज नहीं पाए। सचिन उस दौरे पर इकलौते ऐसे खिलाड़ी थे, जो 2004 से पहले भी पाकिस्तान में खेल चुके थे। उस इंटरव्यू को करने की कोशिश में पुलिस वालों ने करीब करीब मुझे खींच ही लिया था...कुछ इसी तरह अनिमेष ने उस समय पाकिस्तान टीम के कप्तान रहे इंजमाम उल हक का इंटरव्यू किया था, पर हम वो भी भेज नहीं पाए थे। बॉस को इन सारी परेशानियों की जानकारी दी गई- आखिरकार उन्होंने बातचीत करके पीटीवी से करार के लिए हामी भर दी। इस करार का मतलब ये था कि हमें हर रोज पीटीवी के स्टेशन से जाकर फीड भेजनी होती थी, हम एक शूट टेप पर 10 मिनट की एडिटिंग करके स्टोरीज तैयार करते थे और वो स्टोरीज वहां से यहां रियल टाइम में रिकॉर्ड करा दी जाती थीं। काम की गाड़ी अब धीरे-धीरे पटरी पर आ रही थी, स्टोरीज शूट करना और उसे भेजना। दफ्तर से कलर स्टोरीज की डिमांड बढ़ती जा रही थी, और हम जिस हद तक उसे पूरा कर सकते थे, पूरा कर रहे थे। अभी असली मुसीबत हमारा इंतजार कर रही थी। दौरे के पेशावर पहुंचते पहुंचते कवरेज पर थोड़ी और सख्ती कर दी गई। प्रैक्टिस के दिनों में भी वही कैमरामैन अंदर जा सकते थे, जिनके पास एक्रीडीटेशन पास हो, जो हमारे कैमरामैन के पास नहीं था। यानी अब कैमरा चलाने की जिम्मेदारी भी हमारी ही थी, आजकल की तरह पीडी कैमरा नहीं, बल्कि बड़ा बीटा कैमरा। जिसमें बैटरी अलग से कंधे पर लटकानी होती है। एक रोज उस दौरे पर टीम इंडिया के मीडिया मैनेजर रहे अमृत माथुर ने स्पिनर रमेश पोवार और तेज गेंदबाज एल बालाजी का ओपन मीडिया सेशन कराया। ओपन मीडिया सेशन में हर चैनल के संवाददाताओं के पास मौका था कि इन दोनों खिलाड़ियों से इंटरव्यू किया जा सके। हर चैनल के संवाददाता के साथ उनका कैमरामैन था- जबकि मैंने और अनिमेष ने एक दूसरे के इंटरव्यू के लिए खुद कैमरा किया...जाहिर सी बात है कैमरे पर कंट्रोल ना होने की वजह से इंटरव्यू अच्छी तरह से शूट नहीं हो पाया। इस वजह से बाद में हम दोनों को ही बॉस से डांट खानी पड़ी। अच्छा हां, इस दौरान हमने जितनी भी स्टोरीज शूट की, उसमें अनिमेष ने मेरे कपड़े पहनकर काम चलाया। हकीकत ये है कि हमें वहां इतना वक्त भी नहीं मिल पा रहा था कि कुछ कपड़े खरीद लिए जाएं। उस दौरे में भारत ने टेस्ट सीरीज जीती, वनडे सीरीज जीती, सहवाग भारतीय क्रिकेट इतिहास में तिहरा शतक बनाने वाले पहले खिलाड़ी बने...सीरीज के दौरान ही पूर्व तेज गेंदबाज सरफराज नवाज ने मैच फिक्सिंग के भूत को जिंदा कर दिया, उन्होंने आरोप लगाया कि पाकिस्तान और भारत की सीरीज फिक्स है। ये एक ऐसी खबर थी, जिसे चलाना और ना चलाना दोनों बेहद चुनौती भरा काम था। हमारे पास नवाज की बाइट थी, लेकिन हमने फिर भी वो स्टोरी नहीं चलाई। आज जब हर सीरीज के बाद पाकिस्तान की टीम पर मैच फिक्सिंग के आरोप लगते हैं, तो मुझे लगता है कि पाकिस्तान में कई सरफराज नवाज पैदा हो गए हैं। इन सारी बड़ी खबरों की कवरेज की चुनौती रही, लेकिन सच्चाई ये है अब भी इन खबरों से ज्यादा चुनौती उन चेहरों को भूलने की है- जो हर रोज सोते जागते आंखों के सामने आते रहते हैं...मानो कहते हों मियां कभी हमारा भी हाल चाल ले लिया करो...

3 comments:

Suman said...

nice

शिवेंद्र said...

शुक्रिया सुमन जी

alok said...

Jijaji very well written ,aur maine mummy ko bhi padh kar sunaya,she also appreciated it .also she loved ur shivi n shahensah. mumy keh raheen haain ki apne usme shivi kee pose ka jikra nahe kiya .